धन्ना जाट की पूरी जानकारी Dhanna Jatt

हेलो दोस्तों आज हम राजस्थान के प्रसिद भक्त धन्ना जाट के बारे में विस्तार से जानेगे – Dhanna Jatt

धन्ना जाट का जीवन परिचय Dhanna Jatt biography in hindi

  • नाम – धन्ना जाट
  • प्रसिद्धि – संत
  • धन्नाजी का जन्म – 1415 ई.वैशाख कृष्ण अष्टमी के दिन
  • रामेश्वर जाट के परिवार में हुआ
  • जन्म स्थान – टोंक जिले के धुवन गांव
  • गुरु – रामानंद जी
  • जिला – टोंक , राजस्थान (भारत)
15वीं सदी में राजस्थान में धार्मिक आंदोलन को प्रारंभ करने का श्रेय संत धन्नाजी को दिया जाता है ! इनका मुख्य मेला धमनगांव टोंक में लगता है जहां सर्वाधिक अनुयाई पंजाब जाते हैं !

धन्ना जाट का इतिहास – History of Dhanna Jatt

धन्ना जाट के पिता साधुसेवी और सरलहृदय साधारण किसान थे बहुत ही श्रद्धालु इंसान थे ! उनके यहाँ पर हमेशा विचरते हुए साधु-संत आकर एक-दो दिन रुक जाते थे ! और धन्ना जाट उस समय पाँच वर्ष के बालक थे ! और एके दिन उनके घर एक ब्राह्मण साधु पधारे ! साधु अपने हाथों कुएँ से जल निकालकर स्‍नान किया और झोली में से शालग्राम जी को निकालकर तुलसी, चन्‍दन-धूप-दीप आदि से पूजा भी की ! यह सब धन्‍ना बड़े ध्‍यान से पूजा देख रहे थे धन्ना ने ब्राह्मण से कहा कि “पण्डित जी ! मुझे एक मूर्ति दो मैं भी पूजा करूँगा ! जाट के लड़के को शालग्राम तो कौन देने चला था; लेकिन बालक हठ करके रो रहा था ! इस कारण ब्राह्मण ने एक काला पत्‍थर पास से उठाकर दे दिया और कहा ! “बेटा ! यही तुम्‍हारे भगवान हैं हमेशा इनकी पूजा किया करना !

धन्ना जाट की भक्ति – Dhanna Jat ki Bhakti

बाल्यकाल से धन्ना जाट का झुकाव भगवत् भक्ति (विष्णु की आराधना) की और अधिक था और एक दिन ये घर-बार छोड़कर बनारस चले गये ! और वहाँ रामानंद जी से दीक्षा ले उनके शिष्य बन गये संत धन्नाजी निर्गुण भक्ति के उपासक थे !  धन्नाजी मोक्ष प्राप्त में गृहस्थ जीवन को बाधक नहीं मानते लेकिन गुरु मार्गदर्शन को मोक्ष प्राप्ति में आवश्यक मानते हैं ! गुरु महत्त्व को समझाते हुए उन्होने कहा, कि “जगत् में ईश्वर का‌ मार्गदर्शन मेरा गुरु है ! और जब मैं अपने गुरु की शिक्षा और‌ आदर्शों पर मनन करता हूँ तो हृदय को बड़ी शांति मिलती है !
  • धन्ना जाट द्वारा‌ रचित पदों को ‘धन्नाजी की आरती’ कहा जाता है !
  • जाट धन्ना जी को मानने वाले विवाह में केवल गणेशजी की पूजा करते हैं !
जाट धन्नाजी बीकानेर में अधिक प्रसिद्ध हैं इन्होंने कोई पंथ नहीं चलाया परंतु इनका पहनावा रामानंदी साधुओं के समान होता है !

धन्नाजी का खेत का किस्सा The story of Jat Dhannaji’s farm

लोकमान्यता के अनुसार किसी खेत में पैदावार कम होती है या फसल की बीमारी ठीक नहीं होती है ! तो धन्ना जाट भक्त के खेत की मिट्टी ले जाकर डालने पर पैदावार अच्छी व बीमारी ठीक हो जाती है ! धन्ना भगत के गांव में अब भी प्रसिद्ध है एक बार सब के खेतों में गेहूं पैदा हुए और धन्ना जाट के खेत में तुंबे पैदा हुए ! जब खेतो में तुम्बो का ढेर लगा तो वहां के जागीरदार ने लाटा लिए बिना ही छोड़ दिया तो धन्ना  जाटने कहा !
कि मैं बिना लाटा दिए नहीं ले जाऊगा तो जागीरदार ने लाटे के दो तुम्बे लिए और इनको मौके पर ही फोड़ कर देखा ! तुम्बों के बीज की जगह मोती भरे मिले गांव के जागीरदार ने उसकी याद में गांव के दक्षिण- पश्चिम में एक तलाई का निर्माण भी करवाया ! इस तालाब का नाम  मोती तालाब रखा गया था !
इसको देश की आजादी के बाद राजस्थान सरकार ने विस्तार करके मोती सागर बांध बनवाया दिया 

ठाकुर की सेवा – Dhanna Jat or Thakur ji

धन्ना जाट ने सवेरे स्‍नान करके भगवान को नहलाया चन्‍दन तो था नहीं, मिट्टी का ही तिलक किया भगवान को ! वृक्ष के हरे पत्ते चढ़ाये तुलसीदल के बदले फूल चढ़ाये और कुछ तिनके जलाकर धूप कर दीया और दीपक दिखा दिया ! हाथ जोड़कर प्रेम पूर्वक से दण्‍डवत की दोपहर में जब माता ने बाजरे की रोटियाँ खाने के लिए लाई ! धन्‍ना जाट उन रोटियो को भगवान के आगे रखकर आँखे बंद कर लीं ! और बीच-बीच में आँखें थोड़ी थोड़ी खोलकर देखते भी जाते थे कि भगवान खाते हैं की नहीं !
जब भगवान ने रोटी नहीं खायी तो इन्‍होंने हाथ जोड़कर बहुत ही प्रार्थना की ! इस पर भी भगवान को भोग लगाते न देख धन्ना जाट को बड़ा दु:ख हुआ और मन में आया की ! भगवान मुझसे नाराज हैं इसी लिए मेरी दी हुई रोटी नहीं खा रहे हे ! भगवान भूखे रहें और स्‍वयं खा लें  यह उनकी समझ में ही नहीं आ सका !
रोटी उठाकर वे जंगल में फेंककर आ गए कई दिन हो गये, ठाकुर जी खाते नहीं और धन्‍ना उपवास करते रहे  ! शरीर दुबला होता जा रहा था माता-पिता को कुछ पता नहीं चल रहा था ! कि उनके लड़के को क्‍या हुआ हो गया है  धन्‍ना को एक ही दु:ख हो रहा था  ठाकुर जी उनसे नाराज हैं ! उनकी रोटी खा नहीं रहे अपनी भूख-प्‍यास का उन्‍हें पता ही नहीं ! कब तक सरल बालक से ठाकुर जी नाराज रह पाते ! बाजरे की इतनी मीठी प्रेमभरी रोटियों को खाने का मन उनका कब तक नही होता !
  • ठाकुर जी का प्रकट होना धन्ना जाट के यहाँ – hindi story Dhanna Jatt

एक दिन धन्‍ना ने जब रोटियाँ रखीं और ठाकुर जी प्रकट हो गये और भोग लगाना शुरू कर दिया ! जब आधी रोटी खा चुके थे तब बालक धन्ना जाट ने हाथ पकड़ लिया  और कहा ठाकुर जी ! इतने दिनों तक तुम आये क्यों नहीं  मुझे भूखों मारा और आज आये तो सब रोटी अकेले ही खा जाना चाहते हो ! मैं आज भी भूखा मर रहा हु मुझे थोड़ी रोटी भी नही दोगे क्या ! बची हुई रोटियाँ भगवान ने धन्‍ना को दीं  जो सुदामा के चावल द्वारिका के छपन भोग से भी मीठे थे !
  • महत्वपूर्ण बात
पाँचवें सिक्ख गुरु अर्जुनदेव ने भी धन्ना जाट की भक्ति भाव के बारे में ‘गुरुग्रंथ साहिब’ में उल्लेख किया है ! की वह एक सिद्ध महापुरुष थे !

 

Leave a Comment