बाड़मेर के मंदिर Barmer Temples

राजस्थान राज्य के बाड़मेर के मंदिर की बात करे तो इस जिले में सुंदर और भव्य मंदिर स्थित है. जिसे देखने के लिए भगतो की भारी भीड़ उमड़ती है हम आज ऊनि मंदिरों को विस्तार से जानेगे.

राजस्थान बाड़मेर के मंदिर Rajasthan Barmer Temples in hindi

  • श्री रणछोड़रायजी वैष्णव तीर्थ और हिन्दुओं का पवित्र बाड़मेर के मंदिर
  • मल्लीनाथ मंदिर बाड़मेर
  • ब्रह्मा का मंदिर आसोतरा, बाड़मेर
  • श्री नाकोड़ा बालोतरा मंदिर बाड़मेर
  • किराडू के मंदिर बाड़मेर
  • वीरातरा माता बाड़मेर
  •  नागणेची माता मंदिर बाड़मेर 

 श्री रणछोड़रायजी मंदिर बाड़मेर Shri Ranchhod Raiji Mandir Barmer –

बाड़मेर के मंदिर में यह प्रमुख वैष्णव तीर्थ एवं हिन्दुओं का पवित्र धाम है जो लूनी नदी के किनारे स्थित है ! खेड़ में भूरिया बाबा तथा खोड़िया बाबा का मंदिर, खेड़ रैबारियों के आराध्य देव हैं ! यहाँ पंचमुखी महादेव मंदिर, खोड़िया हनुमान मंदिर आदि मंदिर भी हैं  ! लोकदेवता पाबूजी भी उँटपालक जातियों जैसे-रेबारियों, राइका आदि के बाड़मेरके मंदिर आराध्य हैं !
  • मल्लीनाथ मंदिर तिलवाड़ा में मल्लीनाथ जी का समाधि स्थल है यहाँ उनका प्रसिद्ध बाड़मेरके मंदिर है !
  •  ब्रह्मा का मंदिर आसोतरा, बाड़मेर में ब्रह्मा का मंदिर स्थित है इस मंदिर की मूर्ति स्थापना 1984 ई. में की गई ! इसे सिद्ध पुरुष खेताराम जी महाराज (आसोतरा) ने बनवाया !

श्री नाकोड़ा मंदिर बालोतरा बाड़मेर Shri Nakoda Mandir Balotra Barmer –

श्री नाकोड़ा बालोतरा के पश्चिम में भाकरियाँ नामक पहाड़ी पर जैन मतावलम्बियों का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान नाकोड़ा स्थित है ! यह भी बाड़मेर के मंदिर में प्रसिद है जिसे मेवानगर के जैन तीर्थ के नाम से भी जाना जाता है ! नाकोड़ा बाड़मेर में बालोतरा रेल्वे जक्शन से 7 किमी. पश्चिम में मरुप्रदेश का यह अभिनव जैन तीर्थ है !
इसका निर्माण 12-13वीं शताब्दी में हुआ था ! मुख्य मंदिर में तेईसवें जैन तीर्थंकर भगवान पार्श्वनाथ की प्रतिमा विराजित है ! यहाँ नाकोड़ा भैरव जी भी अधिष्ठापित हैं ! भगवान श्री पार्श्वनाथ तथा अधिष्ठायक देव भैरव जी की महिमा इतनी विख्यात है ! कि भक्तों द्वारा इन्हें हाथ का हुजूर’
व ‘जागती जोत’ माना जाता है ! प्रतिवर्ष तीर्थकर पार्श्वनाथ के जन्म महोत्सव के दिन पौष कृष्णा दशमी को यहाँ विशाल मेला लगता है !

 किराडू के मन्दिर Kiradu Temple Barmer –

किराडू प्राचीनकाल में परमार शासकों की राजधानी किरात कूप के नाम से विख्यात था ! बाड़मेर के मंदिर के हाथमा गाँव के निकट एक पहाड़ी के नीचे स्थित किराडू 10वीं व 11वीं शती के विष्णु व शिव मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है ! यहाँ सर्वप्रसिद्ध सोमेश्वर मंदिर है यह किराडू खजुराहो का सबसे प्रमुख एवं बड़ा मंदिर है ! और किराडू की स्थापत्य कला भारतीय नागर शैली की है ! सोमेश्वर मंदिर नागर शैली के मंदिर की परम्परा में शिव मंदिरों की श्रेणी में महामारु गुर्जर शैली की एक उच्च कोटि की बानगी है ! बाड़मेर किराडू के मंदिरों के पास पहाड़ी पर महिषासुर मर्दिनी की त्रिपाद मूर्ति है !
 इस किराडू का इतिहास पुरातत्व और अध्यात्म की त्रिवेणी के नाम से जाना जाता है ! यहाँ सोमेश्वर मंदिर के अलावा रणछोड़ मंदिर व शिव मंदिर भी स्थित हैं ! यहाँ मिथुन मूर्तियों की भव्यता के कारण इसे राजस्थान का खजुराहो की संज्ञा दी गई है ! बाड़मेर केमंदिर में दर्सनिय है !

वीरातरा माता मन्दिर Veeratra Mata Mandir Barmer –

बाड़मेर के मंदिर चौहटन तहसील में पहाड़ियों पर भोपा जनजाति की कुलदेवी वीरातरा माता का भव्य मंदिर है ! यहाँ प्रतिवर्ष माघ और भाद्रपद शुक्ला चतुर्दशी को विसाल मेला भरता है !

 नागणेची माता मन्दिर Nagnechi Mata Mandir Barmer –

बाड़मेर के मंदिर में बाड़मेर जिले में पचपदरा के पास नागालो गाँव में नागणेची माता के मंदिरों में माता की लकड़ी की मूर्ति दर्शनीय है ! आलमजी का मंदिर यह धोरीमना में स्थित है !

अधिक जानकारी –


 

Leave a Comment